Delhi News: पंजाब में आप सरकार के पहले वर्ष में ही निवेश 85% गिरा – Ravi Tiwari, BJP Delhi leader

इस लेख में जानें कि कैसे भाजपा दिल्ली (BJP Delhi) के युवा नेता (youth leader) रवि तिवारी (Ravi Tiwari) ने पंजाब में गिरते निवेश का विश्लेषण किया। गौरतलब है कि पंजाब (Punjab) में आम आदमी पार्टी (AAP) की सरकार है।

 

19 जनवरी को द टाइम्स ऑफ इंडिया (The Times of India) में छपी एक खबर के अनुसार पंजाब (Punjab) में आम आदमी पार्टी (AAP Party) की सरकार बनने के पहले वित्तीय वर्ष में ही राज्य के अंदर निवेश 85% तक गिर चुका है। इस अध्ययन में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार पंजाब में निवेश में जबरदस्त रूप से गिरावट आयी है। अध्ययन के अनुसार 85 प्रतिशत की जोरदार गिरावट के साथ जहाँ वित्तीय वर्ष 2021-22 में पंजाब को 23,655 करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त हुआ था। वहीं वित्तीय वर्ष 2022-23 में पंजाब को सिर्फ 3,492 करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त हुआ है। इस तरह की अप्रत्याशित गिरावट का कारण क्या है? क्या आम आदमी पार्टी (AAP )की सरकार में उद्योगपतियों को पंजाब में खतरा या नाउम्मीदी दिखाई दे रही है। आप सुप्रीमो अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और पंजाब के मुख्यमंत्री (Punjab CM, Bhagwant Mann)को जवाब देना चाहिए।

 

भाजपा दिल्ली (BJP Delhi) के युवा नेता (youth leader) रवि तिवारी (Ravi Tiwari) ने कहा कि पंजाब जो हमेशा से ही व्यापार और उद्योगपतियों का गढ़ माना जाता रहा है। यहाँ पर हमेशा से ही व्यापार एवं उद्योग का बोलबाला रहा है। लेकिन आप सरकार ने अब सब कुछ ही मटियामेट कर दिया है। पंजाब जो हमेशा से ही व्यापार और उद्योगपतियों का गढ़ माना जाता रहा है। यहाँ पर हमेशा से ही व्यापार एवं उद्योग का बोलबाला रहा है। लेकिन आप सरकार ने अब सब कुछ ही मटियामेट कर दिया है।

 

भाजपा दिल्ली (BJP Delhi) के युवा नेता (youth leader) रवि तिवारी (Ravi Tiwari) ने कहा कि पंजाब का औद्योगिक विकास इस समय पूरे गर्त में है, क्योंकि जब निवेश ही नहीं होगा और उद्योग नहीं होगा तो फिर राज्य की अर्थव्यवस्था एकदम से ही चरमरा जाएगी। न होगा व्यापार और न ही होगा रोजगार। जिस प्रकार से दिल्ली की जनता को भ्रष्टाचार और घोटाले करके लूटने का काम केजरीवाल कर रहे हैं ठीक वही काम पंजाब के अंदर भगवंत मान पंजाब को बर्बाद करके कर रहे हैं।

 

भाजपा दिल्ली (BJP Delhi) के नेता रवि तिवारी ने पंजाब सरकार से पूछा कि क्या यह वही पंजाब है? जिसने दुनिया को हरित क्रांति का उपहार दिया, जो कभी अपनी उद्यमशीलता के लिए विश्व विख्यात था। पंजाब ने छोटे और मध्यम उद्योगों का केंद्र भी बनाया। लेकिन आम आदमी पार्टी की सरकार ने इस राज्य का ऐसा हश्र कर दिया है कि कोई भी यहाँ पर एक भी रूपया लगाने को तैयार नहीं है।

 

क्या पंजाब का पूरा का पूरा का निवेश आम आदमी पार्टी के विकास पर ही हुआ है अरविन्द केजरीवाल जी? यह सवाल भी लगातार जनता को कचोट रहा है। और लोगों के मन में भी शंका पैदा कर रहा है कि ऐसा क्या हुआ कि निवेश अपने न्यूनतम स्तर पर पहुँच चुका है। इन भाजपा ही पंजाब सरकार को काम नहीं करने दे रही है। इस विषय पर आप मुखिया को खुलकर अपनी राय रखनी चाहिए। गोवा की दिव्य यात्रा से वापस आने के पश्चात् उन्हें जनता से संवाद स्थापित करने का प्रयास करना चाहिए।