रवि तिवारी (Ravi Tiwary): अहंकारी शहजादे राहुल गाँधी ने वर्ल्ड कप हारने पर ठहराया पीएम मोदी को जिम्मेदार

बीजेपी के युवा एवं उभरते हुए नेता रवि तिवारी (Ravi Tiwary) ने कॉंग्रेसी शहजादे राहुल गाँधी के द्वारा पीएम मोदी पर अमर्यादित टिप्पणी की भर्त्सना की। उन्होंने राहुल गाँधी को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि मोदी जी इस समय देश एवं दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेताओ की श्रेणी में आते हैं।

 

उनके खिलाफ कांग्रेस की नफरती सोच किसी से भी ढकी-छिपी नहीं है। वह इस समय पूरे भारत के प्रधानमंत्री हैं न कि किसी पार्टी विशेष के। राहुल गाँधी से इससे अधिक की कोई उम्मीद कर ही नहीं सकता है।

 

उनको कभी दूसरों का सम्मान करना सिखाया ही नहीं गया है। 'पनौती' वाले बयान से राहुल बाबा ने अपनी गन्दी और शर्मनाक सोच का नंगा नमूना पेश किया है। उन्होंने 140 करोड़ भारतीयों के स्वाभिमान पर चोट की है।

 

जन्म लेते ही अपनी दादी फिर अपने पिता को निगलने वाले राहुल गाँधी, पीएम मोदी पर इस तरह की ओछी टिप्पणी करके आखिर क्या साबित करना चाहते हैं? हाँ अगर कांग्रेस की दृष्टि से देखा जाये तो यह बात बिलकुल सत्य प्रतीत होती है कि राष्ट्रीय स्तर पर मोदी जी का उभार अवश्य ही कांग्रेस के लिए पनौती है।

 

राहुल गाँधी की नजर में पनौती, भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की उपलब्धियों पर दृष्टिपात करते हैं। जिसके बाद जनता स्वयं ही निर्णय लेने में सक्षम है कि कौन देश के लिए पनौती है और कौन वरदान?

4 ट्रिलियन डॉलर के नजदीक पहुँची अर्थव्यवस्था?

 

रवि तिवारी (Ravi Tiwary) जी ने बताया कि भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 2014 में जब देश की सत्ता संभाली तब भारत की अर्थव्यवस्था दसवें पायदान पर थी, परन्तु मात्र 9 वर्षों में ही आश्चर्यजनक तरीके के वृद्धि करते हुए भारत पांचवे पायदान पर पहुँच गया है।

 

2014 में भारत की अर्थव्यवस्था का आकार 1.9 ट्रिलियन डॉलर था। जो कि इस समय 3.75 ट्रिलियन डॉलर की हो चुकी है। कुछ ही माह में यह 4 ट्रिलियन डॉलर के पार पहुँच जाएगी। अब जनता तय करेगी कि मोदी जी पनौती हैं या वरदान।

42 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले?

 

आगे रवि तिवारी जी कहते हैं कि विगत वर्षो में देखा जाये तो गरीबी के मोर्चे पर एक निर्णायक युद्ध लड़ा गया है। जिसमे जन-धन खाते खुलवाना हो या प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्के मकान का निर्माण हो। कोरोना जैसे कठिन समय में लोगों की फ्री राशन देना हो।

 

हर मोर्चे पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी भारत के लिए अगुवाई करते नजर आ रहे हैं। आंकड़ों के हिसाब से देखा जाये तो मोदी जी भारत के लिए वरदान हैं, पनौती तो कांग्रेस थी इस देश के लिए।

 

1984 में जिस इंसान की दादी ने 'गरीबी हटाओ' का नारा दिया हो और उसी दादी का निकम्मा पोता आज 2023 में भी गरीबों की लड़ाई लड़ रहा हो। तो यह साफ पता चलता है कि इनकी नीयत में कितनी खोट है। पनौती होना भी अपने आप में एक दुर्भाग्यपूर्ण चीज होती है लेकिन इनकी तो नीयत पर प्रश्नचिन्ह खड़े हो गए हैं।

एशियाई खेलो में करिश्माई प्रदर्शन करते हुए पदकों का शतक?

 

रवि तिवारी (Ravi Tiwary) जी गौरवान्वित होकर यहाँ बताते हैं कि अभी कुछ दिनों पहले समाप्त हुए एशियन गेम्स में भारत ने पहली बार अपने पदको की संख्या को 100 के पार पहुँचाया। पनौती कांग्रेस के समय तो भारतीय खिलाड़ियों को एक-एक पदक के लिए संघर्ष करते देखा गया है।

 

कांग्रेस की परेशानी का कारण यह नहीं है कि भारत के सामने चुनौतियां हैं, बल्कि उनकी परेशानी यह है कि इतनी चुनौतियों को पार करते हुए विकास की बुलंदियों को कैसे छू रहा है। इसी कांग्रेस के समय प्रतिस्पर्धा में भाग लेने वाले राष्ट्रीय खिलाड़ियों की बुनियादी आवश्यकताओं के लिए भी देश के पास फण्ड नहीं होता था। इस देश की सबसे बड़ी पनौती कांग्रेस ही है।

रवि तिवारी (Ravi Tiwary) जी की जनता से अपील

 

अपने वक्तव्य का समापन रवि तिवारी जी ने यह कहते हुए करा कि कोंग्रेसी शहजादे का यह बयान अपने आप में दुर्भाग्यपूर्ण है। यह राहुल गाँधी एवं कांग्रेस की देशविरोधी विचारधारा को दर्शाता है। जिससे देश की जनता को अत्यधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है।

 

देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी भारत के लिए किसी वरदान की तरह हैं। जो भारत को एक दिन खोया हुआ सम्मान व् गौरव दिलाने के लिए प्रतिक्षण संघर्षरत हैं। आप देश की जनता से सहयोग एवं सहायता की उम्मीद है।